Sunday, 12 February 2012

वेलेंटाइन डे ...आता है तो आने दो!

वेलेंटाइन डे को हमने अपनी नजर से देखा....देखा क्या, कई दशकों से देखते आ रहे है!...आप भी खुली आँखों से देखते आ रहे होंगे...आप ने भी मजे लिए होंगे...हम भी तो बस मजे ही ले रहे है!... और हाल ही में लिए हुए एक ताजा मजे को आपके साथ बाँट कर अपनी खुशी में इजाफा करने जा रहे है....देखिए तो इससे आपकी खुशी में भी इजाफा होता है कि नहीं!

हमने एक पोस्ट नवभारत टाइम्स के ब्लॉग पोस्ट पर डाला है....क्यों कि वह पोस्ट हमारा ही होने की वजह से उसे यहाँ भी देने की जरुरत महसूस कर रहे है....ज़रा देखिए तो हमारी कथा नायिका नताशा वेलेंटाइन डे कैसे मनाती आ रही है!

http://readerblogs।navbharattimes.indiatimes.com/mujhekuchhkehnahai/entry/स-थ-क-ई-भ-ह-मतलब-त-व-ल-ट-इन-ड-मन-न-स-ह

15 comments:

virendra sharma said...

शानदार जानदार पोस्ट .

virendra sharma said...

..अब हम सोच रहे थे कि नताशा के घर जा कर उसके मम्मी-पापा से पूछा जाए कि...हर बार नए वेलेंटाइन के साथ वेलेंटाइन डे मनाना अगर गलत काम नहीं है...तो कृपया हमें समझाएं कि गलत काम कौनसे होते है और कौनसे नहीं होते!
अजी आप भी क्या अजीब बात करतीं हैं नित नूतन ही तो सौन्दर्य कहाता है .जैसे वृक्ष अपनी कोपलें बदल्तें हैं वैसे ही लडकियां अब वेलेंटाइन बदलतीं हैं .मियाँ बीवी राजी क्या करेगा काजी ?लिविंग टुगेदर का दौर है यह .

virendra sharma said...

प्यार किया तो डरना क्या ....बी माई वेलेंटाइन .जी हाँ यही रवायत है आज प्रेम की .प्रोपोज करतें हैं अब संकोच नहीं करते ऐसा :'ये कहते वो कहते ,जो यार आता ,सब कहने की बातें हैं ,कुछ भी न कहा जाता ,जब यार आता 'अब तो सबसे पहले कहते ही यह हैं :वेलेंटाइन आई लव यु .

Rakesh Kumar said...

अभी देखते हैं अरुणा जी.

मेरे ब्लॉग पर आप आईं अच्छा लगा.

समय मिलने पर फिर से आईएगा.

'मेरी बात..' पर कुछ अपनी भी कहियेगा.

virendra sharma said...

एक बात वेलेंताइनों से और: मोहब्बत में कोई मुसीबत नहीं है ,मुसीबत तो यह है मोहब्बत नहीं है .यहाँ लस्ट है .आंगिक दैहिक मुद्राओं का नित नूतन आकर्षण है .वक्त बदल गया है प्रेम का स्वरूप भी .

धीरेन्द्र सिंह भदौरिया said...

वाह!!!!!बहुत शानदार जानदार अच्छी प्रस्तुति, सुंदर रचना,....

MY NEW POST ...सम्बोधन...

मनोज कुमार said...

लाजवाब!

virendra sharma said...

'अच्छी पोस्ट .द्रुत टिपण्णी के लिए आपका आभार .पोस्ट .

virendra sharma said...

aapki blog dastak ke lie aabhaar .ऐसी dastak aksar hauslaa बढ़ाती है .shukriyaa .

virendra sharma said...

आपकी ब्लॉग उपस्थिति प्रेरक सिद्ध होती है .शुक्रिया

रश्मि प्रभा... said...

http://urvija.parikalpnaa.com/2012/02/blog-post_25.html

virendra sharma said...

आपकी ब्लॉग उपस्थिति प्रेरक सिद्ध होती है .शुक्रिया
आपकी जानिब से कुछ नया प्रतीक्षित है .

virendra sharma said...

आपकी ब्लॉग उपस्थिति प्रेरक सिद्ध होती है .शुक्रिया
आपकी जानिब से कुछ नया प्रतीक्षित है .

virendra sharma said...

बुरा न मानो होली है ,रंगों की बरजोरी है ,
सखियों बीच ठिठोली है ,मस्तानों की टोली है ,
होली मुबारक .अबीर गुलाल मुबारक ,बरसाने का लठ्ठ मुबारक .

virendra sharma said...

टिपण्णी दान महादान .अवसाद रोधी होतीं हैं टिप्पणियाँ .